अपने पराए

यूं तो उसकी जिंदगी में बहुत कुछ ऎसा हुआ था जो अनपेक्षित था.शायद इसीलिए उसे अब आश्चर्य नहीं होता या फिर यही उसके जीवन का स्थायी भाव बन चुका है.कहने को तो शहर उसके रिश्तेदारों से भरा पडा था जिन्दगी से उसे मां और अकेलेपन के अलावा कुछ नही मिला.
“यही है उस बदचलन लक्षमिनिया का जाया.पराई जात के घर बैठ गई …बिना फेरे बिना मंगलसूत्र …छिः….”फुसफुसाहटें और फुसफुसाहटे उसके कानों मे अनवरत नांद बनकर गूंजती रहती हैं.
आज जब वो गली का मोड घूमकर अपने घर के सामने पहुंचा ही था कि मन का स्थायी भाव कब संचारी हो गया पता ही नही चला.
“ये भींड कैसी लगा रखी है लोगों ने घर के बाहर…”उसने मन ही मन सोचा.
घर के दरवाजे पर ही उसे चान्डलिन बुआ दिख गईं.मन ही मन वो यही कहता है सत्तो बुआ को.
“बिटवा अम्मा चल बसी तोहरी”!!!!!!!!!!दिमाग सन्नाटा काट गया .दौडकर भीतर गया.सफेद चादर ओढकर सो गई अम्मा हमेशा के लिए.आंखें रेगिस्तान हो चुकी हैं अब वहां से पानी नहीं निकलता.
लेकिन अन्दर भावनाओं का समन्दर उमड पडा है.उसे एकान्त चाहिए अब अपना एकमात्र साथी. सांत्वना देने वालों को बर्दास्त नही कर पा रहा.
“जिन्दगी के सफर मे अकेला छोड दिया था अब शवयात्रा मे साथ देंगे…जलील कुत्ते” मन प्रतिकार करना चाहता था उस जमावडे का.
“बेटा सब विधि का विधान है.क्या किया जाए.माटी की देह है माटी मे मिल जाना है.सब माया है मिथ्या है.”
“कुछ मिथ्या नही है….”पण्डित जी की बात बीच मे ही काट दी उसने.”ये लो..” कहकर दीवार में सर मार लिया उसने.”सब असली है दर्द होता है यहां चोट लगने पर नकली नही है ये…” कांपते हाथों से माथे पर हाथ फेरा अपना.
“भागो सब यहां से …भागो…नही चाहिए किसी की हमदर्दी…”
सन्नाटा सा छा गया घर में अचानक.तेज हवा चली और लाश के चेहरे पर से कफन हट गया.अम्मा का झुर्रियोंदार फक चेहरा बाहर निकल आया…जैसे कि बेटे की बात का समर्थन कर रहा हो.

Advertisements
sanjaydixitsamarpit द्वारा

अपने पराए” पर एक टिप्पणी

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s